You are currently viewing Artificial Intelligence (हिंदी में)
Artificial Intelligence in hindi

Artificial Intelligence (हिंदी में)

क्या आप जानते हैं Artificial Intelligence क्या हैं?जब से मनुष्य ने Computer का आविष्कार किया हैं तब से हम अपना ज्यादा तर काम computers से ही करवाना चाहते हैं.क्योंकि इससे हमारा काम ज्यादा आसानी से और ज्यादा जल्दी से हो जाता हैं.

दिन प्रतिदिन हमने computers और machines का इस्तेमाल इतना बड़ा दिया हैं की आज हमें  ज्यादा तर काम के लिए computers और machines में depend होना पड़ता हैं.

आज machines हर बड़े से बड़ा काम सटीकता से और बहुत ही कम समय कर देता  हैं. जिससे हमारे समय की बचत हो सके और हमारा Future बेहतर हो सके. देखा जाये तो Artificial Intelligence भविष्य नहीं हमारा वर्तमान बन चुका हैं.आज हम जहाँ से Online Shopping, online cab booking यहाँ तक की हमारे Smartphone में भी AI का इस्तेमाल हो रहा हैं.

आपको इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं हैं तो आपको tension लेने की कोई ज़रूरत नहीं हैं इस Article के अंत होने तक आपको AI के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी और मेरा यह मानना हैं की हमारे देश में AI के बारे में सबको जानकारी होना ज़रूरी हैं.

Al कोई नया Domain (कार्यक्षेत् ) नहीं हैं बल्कि यह काफी पुराने समय से Develop हो रहा हैं. लगभग 1943 में इसकी शुरुआत हुई थी यह Computer Science का ही एक शाखा हैं.

 जिसका मुख्य रूप यह काम हैं की ऐसे Machines बनाए जो इंसानों की तरह ही बुद्धिमान हो जैसे हम किसी भी वस्तु को देखकर, सुनकर, सोचकर और touch करके  Decision लेते हैं.वैसे ही Artificial Intelligence से बनी यह बुद्धिमान Machine भी खुद से ही Decision ले सकते हैं.और हमारे किसी भी काम को बड़े आसानी से कर सकते हैं.

तो आइए शुरू करते हैं Artificial Intelligence के बारे में और हम इंसानों के लिए यह इतना महत्वपूर्ण क्यों हैं.

what is Artificial Intelligence (Artificial Intelligence क्या हैं)

Artificial intelligence in hindi

Artificial Intelligence को हम Short में AI कहते हैं. इसका का अर्थ (कृत्रिम बुद्धिमानी) होता हैं. ये एक ऐसा computer Program हैं जिसमें इंसानों की तरह सोचकर समझकर निर्णय लेने की क्षमता हैं. या यूँ कहे तो computers और machines को इंसान जितना बुद्धिमान बनाया जाता हैं जिसे वो हमारी तरह सोच सके और काम कर सके.

इसे खासतौर पर Computer में Programming द्वारा बनाया जाता हैं.AI Programming तीन संज्ञानात्मक Skill पर केंद्रित हैं. पहला Learning (सीखना) दूसरा Reasoning (तर्क करना) तीसरा Self-Correction (आत्म-सुधार).

1. Learning

इसमें machines के दिमाग के अन्दर Data डाला जाता हैं. और फिर उस Data को Processing करके Machine अपने दिमाग के अन्दर Information को Store करता हैं और उस information से machine खुद सीखता हैं. इस प्रक्रिया में machines कुछ नियम (Algorithms) भी सीखता हैं.और इस नियमों को पालन करके machines किसी भी काम को पूरा करता हैं.

2. Reasoning

इस प्रक्रिया में machine के पास जो information store हैं उसके Base पर वोह Decision ले सकता हैं. या यूँ कहे तो machine ने data के माध्यम से जो सिखा हैं उस knowledge के आधार पर सोचकर समझकर निर्णय ले सकता हैं.जैसे की किसी को कुछ advise कर करना या किसी Topic पर definite या Approximate निष्कर्ष निकलना. यह process machines को तर्क करने का क्षमता प्रदान करती हैं.

3. Self-Correction

इस प्रक्रिया में machine खुद को पहले से बेहतर काम करने के योग्य बनता हैं अपने Past Experience से सीखते हैं.अगर हम AI का Specific Application की बात करे तो इसमें Expert System, Machine Vision, Speech Recognition, NLP(Natural Language processing) शामिल हैं.

इसको कुछ इस प्रकार से बनाया गया हैं की वोह पहले सोच पाए फिर उस Problem से सिख पाए और फिर उचित Decision ले पाए उस problem का हल निकलने के लिये.यह बिलकुल इंसानी दिमाग का mimic हैं.

Artificial Intelligence का History

Artificial Intelligence ना ही कोई नया शब्द हैं और ना ही Researchers के लिए कोई नया Technology नहीं हैं. बल्कि इस technology का शुरुआत 1943 से हुआ था.

  • The year 1943

 पहला काम जो AI के रूप में मान्यता प्राप्त हैं Walter Pits और Warren McCulloch इन दोनों ने प्रथम Artificial Neuron का एक Models का प्रस्ताव दिया था.

  • The year 1949

 Donald Hebbian ने Neurons के बिच Connection कि ताकत को दिखने के लये एक नये नियम का प्रदर्शन क्या इस नियम को Hebbian Learning कहते हैं.

  • The year 1950

 Alan Turing जिन्हें Computer Science के Father के रूप में भी जाना जाता हैं और जो की England के Scientist थे. 1950 में Can machine Think विषय को उल्लेख किया और Machine Learning के मार्गदर्शक बने.

 Alan Turing ही पहले वियक्ति थे जिन्होंने Computing Machinery और Intelligence प्रकाशित किया था. जिसमें machines के Intelligence को दर्शाने के लिए उन्होंने एक test का प्रस्ताव रखा.

यह Test इंसानी बुद्धि के सामने machines के बुद्धिमान व्यवहार की क्षमता को जांच सकता हैं. जिसे Turing Test कहा जाता हैं.

  • The year 1955

 Allen Newell और Herbert A. Simon in दोनों ने मिलकर पहला Artificial Intelligence Program बनाया जिसका नाम Logic Theorist रखा गया. इस Program ने 52 में से 38 Mathematics के Theorems सिद्ध किया और कुछ Theorems के लिए नए और अधिक बेहतर प्रमाण खोजे.

  • The year 1956

 Artificial Intelligence शब्द का इस्तेमाल पहली बार John MacCarthy जो की American Computer Scientist थे 1956 में Dartmouth Conference में किया था. तब से AI को Academic क्षेत्र रूप में देखा जाने लगा.

उस समय AI के लिए अधिक उत्साह के कारण High Level computer Languages जैसे  Cobol, Fortran Lisp इत्यादि का आविष्कार किया गया.

  • The year 1966

Researchers ने एक Algorithms को बनाया जो की Mathematics के Problem को हल कर निकल सकता था. और Joseph Weizenbaum ने 1966 में पहला ChatBot Eliza को बनाया था.

  • The year 1972

 japan ने पहला बुद्धिमान Humanoid Robot बनाया गया जिसका नाम Wabot-1 रखा गया.

  • The year 1982

 Japan ने Fifth Generation Computer Project को शुरू किया. जिसका Goal सिर्फ गणना करना ही नहीं था बल्कि Reasoning के क्षमताओं के साथ Computer Develop भी करना था.

 ऐसे  AI Computer का इस्तेमाल Medical के क्षेत्र में Lawsuit में और किसी भी भाषा को समझने में किया जा सकता हैं.

  • The year 1997

 IBM के Deep Blue Computer ने उस समय के Chess Champion Garry Kasparov को एक Chess Game में हराकर इतिहास रच दिया.

बीते कुछ वर्षो से AI की डेवलपमेंट बहुत तेजी के साथ आगे बड़ा हैं.आज AI के अंदर  Robotics, Automation Big data भी शामिल हैं. इसीलिए business Owners आज इसका इस्तेमाल करने में ज्यादा रूचि दिखा रहे हैं.

Artificial Intelligence के Subfields

Artificial Intelligence में तो काफी कुछ हैं.लेकिन हम AI के जो Major Subfields हैं उसके बारे में जानेंगे. 

1. Machine learning

machine learning

Machine learning AI का ही एक भाग हैं और यह हर दिन चर्चा में रहता हैं. कभी भी कोई company किसी भी नया Product को पेश करते हैं तो अपने users को पहले से अधिक रचनात्मक तरीके से वितरित करने के लिए Machine learning Algorithms का इस्तेमाल करते हैं.

इसके की मदद से computer को programing किये बिना ही काम को सीखने की क्षमता प्रदान करता हैं. इसे Daily Life में सक्रिय रूप में इस्तेमाल किया जा रहा हैं. मूल रूप से इस विज्ञान का इस्तेमाल से machines को Real World के Problem को Solve करने के लिए Data को Analyse करके जांच करने में सक्षम बनता हैं.

Deep learning machine learning का ही भाग हैं. इसमें Structured Data और Unstructured Data दोनों इस्तेमाल किया जाता हैं. deep learning परिणामों की भविष्यवाणी करने के लिए आदर्श हैं. इसे Large Amount of Data से ही हासिल किया जा सकता हैं.

Machine learning Algorithms को Programer जटिल Mathematical Expertise के साथ Design करते हैं. जब की एक Complete Machine learning system को बनाने के लिए Algorithms को  Machine भाषा में Coding करना पड़ता हैं.

इसके 4 प्रकार के हैं. पहला Supervised learning दूसरा Unsupervised learning तीसरा Semi-Supervised और चौथा Reinforcement Learning.

  1. Supervised learning

इस प्रकर के Algorithms में machine अपने Past Experiences से जो सिखा हुआ होता हैं उसे यह नए data में लागु करता हैं. ताकि वोह पहले से दिये गए Input data का इस्तेमाल करके भविष्य में होने वाली किसी घटना का अनुमान लगा सके यह Algorithms ठीक इंसानों की तरह अपने पुराने Experience से सिखता हैं. 

Supervised learning में machine को input के तोर पर बहुत सरे examples दिए जते हैं. जिससे यह Algorithms अपने examples से सिखता हैं और फिर सही Output का अनुमान लगता हैं.

  • Unsupervised learning

इस प्रकार के Algorithms में input के रूप में examples पहले से नहीं दिए जीते इसमें Algorithms को खुद ही data के आधार पर prediction करना होता हैं.

इसमें यह test data या Real data से सीखते हैं. जिन्हें पहले से categories Labelled या classified नहीं किया गया हैं. 

यह Algorithms data में समानताओं की पहचान करता हैं और फिर उस data के प्रत्येक तुकरे में समानताओं की उपस्थिति के आधार पर Output देता हैं.

  • Semi-Supervised learning

 यह Algorithms supervised और Unsupervised learning के बिच में आता हैं. क्योंकि प्रशिक्षण के लिए यह Labelled data और unlabelled data दोनों का इस्तेमाल करता हैं.

वो system जो इस Algorithms का इस्तेमाल कतरा हैं वोह दिन प्रितिदीन अपने learning क्षमता को सुधार करने में सक्षम होता हैं.  

  • Reinforcement learning

Reinforcement learning एक सिखने का तरीका हैं. जो क्रियाओ को प्रसुत करके अपने आस पास के Environment से बात करता हैं.

साथ ही Errors को भी discover करता हैं Trial an Error को खोज निकलना और उसके बारे में पता लगाना इसका खासियत हैं. 

यह बहतर Machine Software Agent को किसी भी निर्देश की गति विधियों का खुद से पता लगाने में मदद करता हैं. जिससे यह system के Performance को और भी बहतर बनता हैं.

2. Expert system    

Expert System पूरी तरह से Knowledge Based हैं. और यह system Expert के ज्ञान पर निर्भर करता हैं इसमें system को जितना जानकारी दिया जाये System उतना ही अच्छा performance देता हैं. इसका सबसे अच्छा उदाहरण google Search Engine हैं.  

यह system प्रवीणता के माध्यम से Reasoning के माध्यम से Complex Problem को Solve करने के लिए बनाया जाता हैं. Expert system का प्रमुख विशेषताओं में ,reliable,responsive,understandable and high Execution शामिल हैं.

3. Artificial Neural network

सरल शब्दो में कहें तो यह एक Artificial Neural network Algorithms का set होता हैं जो मानव मस्तिक संचालन प्रक्रिया को नकल करता हैं. इसका उपयोग data के समहू में pattern के संबंदो को खोजने के लिए किया जाता हैं. 

neural network layers
INPUT LAYER HIDDEN LAYER OUTPUT LAYER

Artificial Neural network एक गणितीय कार्य हैं. जिसमें input और output neurons Layer के बीच में Hidden neurons layer होता हैं. एक neural network में जितना ज्यादा Hidden neurons layer होता हैं वोह उतना ही अच्छा neural network माना जाता हैं.

क्योंकि Hidden neurons layer किसी भी input data को बहुत अच्छे से Classified करके output layer तक पहुँचाता हैं. इसे पूर्व अनुमान बहुत ही अच्छे से किया जाता हैं.

जैसे की Fraud detection, risk Analysis, stock exchange prediction, sales prediction और बहुत कुछ किया जाता हैं.

4. Robotics 

Artificial intelligence in hindi

यह AI का एक बहुत ही Interesting क्षेत्र के रूप में उभरा हैं. यह Research और development का एक Interesting क्षेत्र हैं. यह मुख्य रूप से robots का design और निर्माण करता हैं.

  • Robotics science और engineering का एक ना ख़त्म होने वाला विषय हैं. जिसमें Mechanical Engineering,electronic engineering, computer science और कई दुसरे system शामिल हैं.
  • Robots design production संचालन और उपयोग को निर्धारित करता हैं. यह उनके बुद्धिमान परिणामों और information transfer के लिए computer system से संबंधित हैं.

Robots का अक्सर इस्तेमाल वहा होता हैं जहाँँ जो काम इंसानों के लिए नामुनकिन होता हैं या इंसानों को ज्यादा समय लगता हैं. जैसे की Space program के लिए Automobile sector में Production के लिए. आज तो AI Researchers ने machines learning का इस्तेमाल करके सामाजिक तोर पर बातचीत करने के लिए भी  Robots बना चुके हैं.

5. Natural language processing(NLP)

Artificial intelligence in hindi
Natural language processing

सामान्य शब्दो में कहे तो NLP AI का ही एक हिस्सा हैं.जो की computer program और इंसानों के बीच Communication करने में मदद करता हैं.यह इंसानी भाषओं के computational Processing का एक तकनीक हैं. यह Computer को इंसानी प्राकृतिक भाषा का नकल करके data को पड़ने और समझने में सक्षम बनता हैं. 

इसका उदहारण हैं google mail का Spam detection. जिसमें सारे spam mails का Category Automatic Gmail द्वारा बनाया जाता हैं. इसमें,speech recognition भी शामिल हैं.

6. Fuzzy Logic 

Real world में कभी कभी हम ऐसी स्थिति का सामना करते हैं जहाँँ पहचानना मुस्किल होता हैं की स्तिथि ठीक हैं भी या नहीं जो किसी भी स्थिति को अशुद्धि और Uncertainty की ओर ले जाता हैं.

अशन भाषा में कहे तो Fuzzy Logic एक ऐसी technology हैं जो एक सीमा को मापकर अनिश्चित जानकारी का प्रतिनिधित्व करता हैं.

अस्पष्ट तर्क का इस्तेमाल स्वाभाविक रूप से अनिश्चित अवधारणाओं के बारे में तर्क के लिए भी किया जाता हैं. Fuzzy logic machine learning technology में लागू करने के लिए सुविधाजनक और लचीला हैं. तार्किक रूप में यह इंसानी विचारो को नकल करता हैं.

Normal logic में जो logic होता हैं या तो वोह पूरी तरह से सही होता हैं या तो फिर पूरी तरह से गलत होता हैं. लेकिन Fuzzy logic में कोई भी logic पूरी तरह से सही या पूरी तरह से गलत नहीं होता यह अस्पष्ट रहता हैं इसे हम Fuzzy logic कहते हैं.

7. Machine vision

Artificial intelligence in hindi
MACHINE VISION

यह system की मदद से Computer को देखने के काबिल बनता हैं.जिसमें camera का इस्तेमाल करके computer Visual information को प्राप्त करता हैं और उसे analyse करके साथ-साथ Digital analog Conversion भी करता हैं.

इसे हम इंसानों से भी तुलना करते हैं जहाँ इंसान सिर्फ दीवार को ही देख सकता हैं.लेकिन Machine vision की देखने की कोई limit नहीं होता है इनसे दीवारों के पार भी देखा जाता हैं. इसीलिए इसका उपयोग हम Medical Sector में भी करते हैं. 

Artificial Intelligence के प्रकार 

AI के कही सरे प्रकार हैं लेकिन जो मुख्य प्रकार हैं हम उसके बारे में जानेंगे. 

1. Weak AI (Artificial Narrow Intelligence)

2. Strong AI (Artificial General Intelligence)

3. Singularity (Artificial Super Intelligence)

1. Weak AI (Artificial Narrow Intelligence)

इस प्रकार के AI system एक Specific Task perform करने के लिए बनाए जाते हैं.जैसे की google Assistant, Apple Siri,Amazon Alexa यह तक की humanoid Robot Sophia भी Weak AI के under आता हैं.

2. Strong AI (Artificial General Intelligence)

Artificial intelligence in hindi
Strong AI

इस प्रकार के AI system में generalized इंसान के जैसा बुद्धिमनी होता हैं. इसमें पूरी तरह से इंसानों के जैसा बुद्धिमता और इंसानों के जैसा Feelings होता हैं. 

यह AI system समय आने पर कोई भी Difficult Task का solution बड़े ही आसानी से इंसानों की तरह या इंसानों से बहतर निकल सकता हैं.

3. Singularity (Artificial Super Intelligence)

Artificial intelligence in hindi
Singularity AI

इस प्रकार के AI System इंसानों से भी कही गुना बुद्धिमान होते हैं. यह वो सरे काम कर सकते हैं जो की इंसानों के बुद्धि से भी सोचने के परेह हैं. मतलब अगर बुद्धिमानी के  Scale में हम इंसान 10 Point पर हैं तो यह Super AI 1000 point पर होगा. 

Catagory of Artificial Intelligence

Arend Hintze जो की Assistant professor हैं..michigan State University में इन्होने AI को 4 हिस्से में Categorize कर दिया. जो की इस प्रकार के हैं.

 1. Reactive machines

Deep Blue Computer IBM का एक Chess program हैं. जिसने Garry Kasparov को 1997 में एक Chess game में हराया था.

इसका design सिर्फ Chess Board के Pieces को Identify और उसके हिसाब से prediction करने के लिए बनाया गया हैं लेकिन यह अपने Memory में कुछ Store नहीं कर सकता जिससे यह Past Experience से कुछ नहीं सिख पता हैं.

यह सिर्फ खुद की और अपने Opponent की Possible move को Analyze कर सकता हैं और उसके हिसाब से better Strategic move को चुन सकता हैं.

2. Limited Memory

Limited Memory AI System अपने past experience से सिखता हैं और इसका इस्तेमाल करके Future Prediction करता हैं.कुछ Decision Making function जिसे हम Autonomous Vehicles में भी इस्तेमाल करते हैं.

इसके Observation का इस्तेमाल करके Future में किसी भी हादसों को थोडा बोहुत रोक सकते हैं लेकिन यह पूरी तरह से memory को Store नहीं कर सकते.

3. Theory of mind

Theory of mind AI system अभी अपने शुरुआती दौर पर हैं इसे हम Self Driving Car में देख सखते हैं. इस प्रकार के AI इंसानी विचार और भावनाओ से  बातचीत कर सकतें हैं. इस AI अध्ययन के क्षेत्र में Artificial Emotional Intelligence और निर्णय लेने का सिद्धांत शामिल हैं. 

13 May 2020 की घटना The Future of machine learning और Artificial Intelligence के बिषय में Michael Jordan और Ion Stoica कुछ निर्णय लेने वाले research प्रस्तुत किए. 

4. Self-Awareness

Self-Awareness AI System में अपनी खुद की Consciousness होती हैं. यह machine अपनी Current State को समझता हैं और यह Feel कर सकता हैं की दूसरे क्या समझते हैं.यह AI system हमें Future में देखने को मिल सकता हैं.

Artificial Intelligence के Applications

  • AI in Healthcare

Artificial Intelligence Hospitals में बोहुत बड़े पहमाने पर इस्तेमाल हो रहा हैं जिसे मरीज़ो को एक बेहतर इलाज बहुत ही कम लागत में मिल पा रहा हैं. इसलिए Government और Companies AI को Healthcare industries में और भी ज्यादा इस्तेमाल करने में रूचि दिखा रहे हैं.

  •  AI in education

Education में AI का इस्तेमाल करके automatic Grades दिया जा सकता हैं जिसे Teacher अपना ज्यादा समय Student के ऊपर दे सकते हैं और AI यह भी Classified कर सकता हैं की कोनसा Student किस विषय पर Weak हैं और इसकी मदद से उस Student को  उस विषय अच्छे से मदद किया जा सकता हैं.  

Education में AI tutors का इस्तेमाल से Students को घर पर ही सभी problem का solution मिल रहा हैं. Students किसी भी subject को आसान शब्दों में समझ रहे हैं इसे उनका पढाई पर interest बड़ा हैं.

  • AI in Business

AI का इस्तेमाल से businesses में काफी development हुआ हैं. पहले जो काम मनुष्य करते थे आज वो काम is AI Algorithms  के मदद से आसान हो गया हैं और Customers integration पहले से ज्यादा बड़ गया हैं.

Businesses में Chatbot के बजाय से Companies के Customer Service में अब Customers को  24×7 मदद मिल रहा हैं. इससे companies का Employee Cost कम हो गया हैं और Customers को भी जल्द से जल्द Service मिल रहे हैं.

  • AI In Law

हमारे देश में एक पहले से ही इतना ज्यादा case Pending हैं और फिर इसके उपर Documents भी बनाने पड़ते हैं इसीलिए Law में AI का इस्तेमाल तेजी से हो रहा हैं. इसके इस्तेमाल से Documents का Processing बड़े ही आसान और जल्दी हो रहा हैं.

  • AI in Finance

Artificial Intelligence का इस्तेमाल जब से Finance में हो रहा हैं तबसे users को बहुत सुविधा मिल रहा हैं. जहाँ पहले सब कुछ Manually करना पड़ता था.लेकिन अब सब कुछ Automatic हो गया हैं. इसके वजय से आज हम online payment apps जैसे phone pe, google pay और paytm का इस्तेमाल बहुत ही आसानी से कर पा रहे हैं. 

  • A I in Manufacturing    

Manufacturing industries में AI का इस्तेमाल से बहुत बड़ा क्रांति आया हैं. पहले जिस काम को करने के लिए सैंकड़ो Employees का जरुरत पड़ता था.आज वही काम AI machines के द्वारा पहले से बहुत जल्दी और पहले से बहुत बेहतर को रहा हैं.उदाहरण के लिए हम Car manufacturing को ही देखे सकते हैं.  

Artificial Intelligence और Human Future

Artificial intelligence in hindi

हम मनुष्य अपने काम को आसान बनाने के लिए Artificial Intelligence का इस्तेमाल दिन प्रतिदिन बढ़ाते जा रहे हैं. इसे हमारी ज़रूरतों पूरी हो रही हैं लेकिन Artificial Intelligence और भी ज्यादा ताक़तवर बन रहे हैं.

इनमें सोचने की क्षमता भी दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा हैं.भविष्य में जब Artificial General Intelligence का दौर आएगा तब ऐसा हो सकता हैं Machines हमारी बात ना माने और वो अपना मनमानी करे. ऐसे में मानव समाज के लिए बहुत मुश्किल हो सकता हैं.

AI हमारे businesses में तो पहले ही आचुके हैं और इनके के बिना आज हमें काम करने में भी मुश्किल होता हैं. तो सोचिए निकट भविष्य में इसका क्या परिणाम हो सकता हैं.  

सुनने में भले ये किसी Sci-Fi Movie की तरह लगे लेकिन यही सत्य हैं Artificial Intelligence का इस्तेमाल हम अच्छे के लिए करना चाहिए.लेकिन हमें यह ध्यान रखना होगा की AI हमेशा हमारे Control में ही रहे तबी हमारे लिए ये लाभदायक साबित होगा और इसके मदद से हम और ज्यादा develop हो सकेंगे.

Conclusion

मुझे आशा हैं की Artificial Intelligence के बारे मैंने आपको पूरी जानकारी दी हैं.और मुझे यह भी आशा हैं की Artificial Intelligence आपको समझ में आगया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से यह गुजारिस हैं.अगर यह जानकारी आपको अच्छा लगे तो इस जानकारी को आप अपने Friends,family,relatives और अपने neighbours के साथ ज़रूर Share करें.

जिससे हमारे बीच जागरूकता बढ़ेगी और इसका लाभ सबको होगा.आपके इस सहयोग की मुझे ज़रूरत हैं जिससे में और भी नयी नयी जानकारी सभी तक पहुंचा सकूँ.  

मेरा यह कोशिश रहता हैं की में अपने सभी Readers को Best जानकारी दे सकूँ .यदि आपको को कोई भी query हैं तो मुझे ज़रुर पूछिए में आपकी query को  Clear करने की पूरी कोशिश करूँगा. 

यह Article Artificial Intelligence क्या है आपको कैसा लगा comment में लिख कर  ज़रूर बताएं इससे मुझे भी आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा जिससे में अपने लेख में और सुधार कर सकूँगा.

ऐसे ही knowledgeable Article के Update पाने के लिए मुझे Subscribe करे. 

Leave a Reply